मंगलवार, 6 जून 2017

...क़त्ल कर देता .

Image result for daughter with father imageImage result for father kills dear daughter image

अगर बिन दर्द के अपने मुझे तू क़त्ल कर देता ,
खुदा अपने ही हाथों से ये तेरी सांसें ले लेता ,
जन्म मेरा ज़मीं पर चाहा कब कभी किसने
जुनूनी कोई भी बढ़कर कलम ये सर ही कर देता .
................................................................
दिलाओ मुझको हर तालीम हवाले फिर कहीं कर दो ,
भला अपने जिगर का टुकड़ा कोई ऐसे दे देता ,
तड़प जाती हैं रूहें भी हकीकत सोच कर ऐसी
मोहब्बत तेरी बेटी को कोई तुझसी नहीं देता .
............................................................
लुटाकर के जहाँ अपना हैं तुमने बेटियां पाली ,
लुटे वो और घर जाकर ये कैसे देख तू लेता ,
जमाना कितना ज़ालिम है ये जाने हैं जहाँ वाले
नहीं ऐसे में बेटी को जनम का दर्द है देता .
.........................................................
खिलाया अपने आँगन में जिसे नन्हीं चिरैया सी ,
उसे वो बाज़ के हाथों परोसकर नहीं देता ,
तेरी आँखों का जो तारा ,तेरी जो गोद की गुड़िया
वो तड़पे एक-एक दाने को सहन तू कैसे कर लेता .
...............................................................
ज़माने ने भरे हैं दर्द गहरे जिसके जीवन में ,
उसे इस धरती पर लाकर नहीं तू और दुःख देता ,
तभी तो ''शालिनी''जाने तुम्हारी बात मन की ये
खुदा से पहले ही उसको तू बढ़कर क़त्ल कर देता .
................................................................
शालिनी कौशिक
[कौशल]

2 टिप्‍पणियां:

सु-मन (Suman Kapoor) ने कहा…

बहुत बढ़िया

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरूवार (08-06-2017) को
"सच के साथ परेशानी है" (चर्चा अंक-2642)
पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

बनोगी उसकी ही कठपुतली

माथे ऊपर हाथ वो धरकर बैठी पत्थर सी होकर जीवन अब ये कैसे चलेगा चले गए जब पिया छोड़कर .......................................... बापू न...